.dateHeader/>

BEST BLOGGER DETAILS, EK SUCCESSFUL BLOGGER OUR SATH HI APNA PASSION KO KAISE COMPLATE KARE.
 hello , BEST BLOGGER DETAILS dosto  aaj hum blogger par bat karenge EK SUCCESSFUL BLOGGER OUR SATH HI APNA PASSION KO KAISE COMPLATE KARE.
   
   dosto aaj ke duniya me internet ka jyada vikas ho gya hai. internet bina koi kam nahi hote hai. ek successful blogger bane ke liye kaffi jyada time dena hoga or apne aap ko bahot kator banna hoga.agar dosto apne jivan me kuch hasil karna hoga to aapko kuch khona ya fir kadi mahenat to karne hi hoti hai. aap ko ek dhyan me rakhna hoga ki aap paise ke liye nahi kam kar rahe hai.aap sirf passion ke liye kam kar rahe hai. par aap ke passion ke sath sath aapko bad me kuch aisa increment najar aayega aap ko earning or aapka nam kafi badha bhi hota jayega ..chaliye dosto aaj hum jante hai kya hota hai blogger.

(BEST) BLOG KYA HOTA HAI.

*     BLOG ek site ki website hoti hai.jaha aap apni kuch bate ya vichar online share ya update  kar sakte hai.blog ek online kitab hoti hai. joki har koi padh sakta hai.our apana khud ka knowlage badha sakte hai. pahile ke jamane me koi  log apne vichar ya apni imformation ya soch pahile ke jamane me ek diary me secret bate likha karte the. but aaj ke modern jamane me diary jaise likhate hai. ONLINE INTERNET PAR  hum use blog kahate hai. par vo apni website hai   .jise hum daily develop bases pe content publish karete hai.yani post likhate hai apne readers ke liye. auo reders ka respond dete hai hume comment ke dwara.esi kriya ko bolte hum blog yani post likhna, comment ka reply karna ise kahte bloggin.

AAPKO  BEST BLOGGER  KE BARE PAR OR KUCH PUCHNA HAI TO COMMENT KARKE BATAYE


.dateHeader/>

Adsense Kya Hai Full Guides?what is google adsense ?
    Hello ,dosto aaj ham GOOGLE ADSENSE KYA HOTA hum janege..
 KYA AAP JANNA CHAHTE YE GOOGLE ADSE KYA HAI? YE KAISE KAM KARTA HAI?.AUR KAISE GOOGLE ADSENSE SE PAISE  KAMATE HAI.. TO ME AAP KO IN SABHI CHIJO KA JABAB DENA CHAHTA HU..

   google adsense ek bahot hi behatarin platform hai. jise aap earn money online kar sakte hai.or google adsense sabse jyada revenue deta hai. ye ek google ki hi company hai but isme part alag ho kar hai .aapke pass website ya blog hai. to aap bhi apna google adsense ka form aprove karke acha khassa paisa kama sakte ho.par aapko google ke algorithm se chalke kama sakete ho me aapko bta deta hu sabse jyada adsense se revenue aproval hota hai.or iske alava koi dusri adsense company jyada paise paid nhi karti hai..

GOOGLE ADSENSE KYA HAI?

 *    aapne te dekhai hoga youtube ya fir kisi website waha par advertise dikhate hai.me aapko simle bhasha me samjata hu. jaise ki aapki koi website hai ya blog ya youtube channel to aap huye plublisher jo log aapki youtube ya website blog par aate hai to une kahte traffic or jo log ya company vighyapan dikhakar ya adse dikhar kar hai aapke traffic tak pohchna chahte hai. une kahte hai advertiser ab advertiser jo hai. vo google adsense ke madhyam se aapke website ,channel blog par adse ya vidhyapan dikhate hai.jiske liye vo adsense kuch paise dete hai..adsense kuch paise kata kar aapko baki adse revenue de deta hai.jaise ki 100percentage me aapko 68 revenue deta hai..

GOOGLE ADSENSE KAISE KAM KARTA HAI?

*   Adwords ye aur ek google ka hi product company hai jo vo advertiser hai yani jo ads dikhane wale log unke ke liye hai. jaise aapko kuch product ko advertise karna hai to aapko kisi ko pucha nhi hoga aap direct apna product ka  nam bta kar GOOGLE ADWORD ko paise dekar direct aap apne product publish kar sakte hai.fir wahi ads google adsense ke through post publisher ke site par automatic li dikhai deta hai.GOOGLE ADSENSE ka ek behatarin kam jo vo bahot acha advantage hai wo ye ki humari site par jo content ke mutabik hai us se related hi advertis hi humare site par display karvata hai.jaise ki aapke site par koi health ke related post hai to waha par ads bhi health ke related hi dikhata hai.
agar aapko nahi samj me aaya hota please aap hume comment karke bhi puch sakte hai.me aapko jyada se jyada help karne ke koshish karta hu. me aapke liye kuch tips share karna chahta hu joki aapka adsense jaldi hi approve ho..

ADSENSE ACCOUNT AAPKA JALDI APPROVE HONE KE TIPS.

*     aap apna content bahot acha rahna chahiye or copyright nahi hona chahiye. descaimar or privacy policy ,about us jarur hona chahiye.

*     aap starting me blogger par hi account banaiye.jisse aapko aasani hota hai.

*    aap apne site ke liye top level domain le mtlb ki .com.org.in.net. etc.

*    aap apne site par hacking or adult content na post kare agar aap aisa kare to aapko adsense approve nhi milega.

*    aap apni site ka desing simple or responsive rakhe. or jyada aapki site load ya error hona nhi chahiye.

*   site ko kamse kam 10din hona chahiye.

*   site par 13ya fir 15 tak post rahina chahiye ..minimum 700ya 800 word me likhe 1post aapke visiter or aapke liye best rahga.
Mobile se paise kaise kamaye

En sabhi tips ko aap fallow karenge to aap ka adsense account jaldi milega agar nhi mila to muje aap comment kar ke puch sakte ho me aapko usa reason bataunga.



.dateHeader/>

WHAT IS INTERNET ?KISNE BANAYA-KYA INTERNET HAI.FULL JANKARI.
   Hello ,dosto aap kaise ho ,, Internet ki khoj kisni ki hai. aaj hum janege internet kaise kam karta ha.or iska malik kon hai.

  INTERNET KI KHOJ KISNE KI HAI.

Aaj ke duniya me har koi internet chalta hai.internet hamre isme itna Ghul milgya hai ki hum uske bina nhi rah sakte hai. aaj internet bina kuch kam nhi kiya ja sakta hai. aaj duniya aadhunic ho chuki hai or kahi salo ka safar insan kuchi ghante me taiy kar raha hai. aasan communication ke jariye duniya ki aarthik vaivsta pichle sadhi ke mukable aaj jyada bahetar ho gyi hai.ye sabhi chizo ki vajh sirf ek network hai.jo kam insan hajaro sal nhi kar paya is network ne kuchi darshko me kar dikhaya insan ki bahetar soch hone ke bavjud bhi ek dusre se sampark karna behat mushkil tha .bahotse scientist ke dwara aise kahi rachnaye he.jisne duniya ka naksha badla lekin ek aise rachna bhi hue jiske bharose duniya rup hi badal gya.  chaliye hum jante hai INTERNET ke bare me.

INTERNET

*  INTERNET ki suruvat 1962 me hui thi .1962 me jisiya nik leader ne ek company banai jisko inone D.A.R.P.A Name diya gya tha (DIFENCE ADVANCE REASERCH PROJECT AGENCY)IS company ke dwara nik leader ne ek network banaya jise inone INTERGALACTIC nam diya gya.network ko banane me ek hi matalb tha sari duniya me network se jodna.1974 VINTON CERF AND ROBAT KAHN ye dono ne milkar  TCP (Tansmission Control Protocol) INTERGALACTIC nam badal kar INTERNET rakh diya gya.

INTERNET KYA HAI?

*   INTERNET KYA HAI.aasan shabdho me do ya do se adhik computer ka ek aisa connection jisise ham imformation sharirng kar sakte hai.hamari jankari dusro tak pohache networking media paltform.

INTERNET KAM KAISE KARTA HAI.

*    client ISP ke thru server tak pohachta hai or waha se file ko download kar leta hai..aasan bhasha me smja deta hu jaise ki aapko ek video download karna hai..sab se pahile computer ya mobile me hum google par search karte hai to hame kuch result show karta hai to fir ham us website par jate hai waha par hame download ka link milta hai fir hum waha se download karte hai...in sab process me jo humlog device use karte hai.use ham client kahte hai.jo hum connection ya fir jo sim use karte h use ham isp kahte hai INTERNET SERVICE PROVIDE kahte hai. or jo download karte use ham servar kahte jo ki hmare data harddrive ya memories me aa jata hai.or isme distributed packege switch network ka use kiya jata hai ..  jisise data bahot speed pakad leta hai..

INTERNET KA MALIK KON HAI. 

internet ke koi akela malik nahi hai.internet ko kahi badhi badhi company milke aaps me saja karke internet service provide karati haior sbhi company yo ke apne apne data center hote hai jin me ki hmara sara data store hota rahta hai.or vahi se aapko sari jankari ya milti rahti hai..
INDIA me internet ki shuruvat 15 AUGUST 1995 HUI THI.us samay internet ka speed 9.6kbps thi.aaj data user ke mamle me INDIA no 1 par hai...

dosto agar internet koi jankari chhut gyi hogi to aap muje comment karke bata sakte hai..agar aapko koi bhi sawal raha to jarur puchiye comment kare..dreamhindi.com me aane ke liye aapka bahot bahot dhynywad... 
Seo Kya Hai , Seo details in hindi
 Helllo, dosto aaj hum janenge SEO ke bare me .
seo kya hai aur kaise kam karta hai yani seo in hindi.  SEO full form (search engine optimization) hota hai. our dusara hota hai ki SEM full form(search engine marketing).search engine marketing paid hota jo ki hmare website rank karne me kahi jyada mdat kiya jata hai. jaise ki google adword h ye company aap se paise lete hai our aapke site ya youtube video ya other etc.inka pramotion krti hai.aap waha par jakar advertisement jitna aap chahe utna traffic ke hisab se paid kar sakte hai, kaise kaise search result pe aapke website pe content pe pramot krna chahte vo sbhi chije usme add ho jati he.  SEO search engine optimization aapke content kitna use full hai or kitna user friendly hai.. me aaj aapko bta raha hu ki seo ki puri jankari or kaise kam karta hai..
Also Read: 


SEO KYA HOTA HAI - (search engine optimization)PURI JANKARI

SEO ka nam hai SEARCH ENGINE OPTIMIZATION .yani ki SEARCH ENGIN Word aa raha h sath me OPTIMIZATION aa raha hai.search engen word kya hota jaise ki google par joki aap jitna bhi search karte ho ya content hai use properly index karta hai or aapko most avarice result hai vo aapke samne display karta hai.bahot prakar ke engen hai google,yahoo,etc.sabse jada google use hota hai.

Ab optimization ka matlab ki hame kuch chijo ka optimize karna taki vo search engine proper kare..jaise ki apne blog ko ya content ko ya fir website ko.agar aapka koi website hai ya blog aap apni site ko first page pr rank karna chahte hai ya 1st page pr lana chahte hai.aap apne website ko optimize krna hoga improvement karna hoga fir search engine aapke website ko proper karle fir top page me display karde.har ek search engen,GOOGLE,YAHOO,BING,unki ek apne algorithm hota hai.jiske according alag alag web ke content ko index karta hai search engin me or unke factor ke hisab se jo bhi uno ne kiye gye hai deserv us page par la deta hai google crawl karne se aapki content index ho jata hai.


SEO के दो प्रकार के टाइप होते हे - (Search Engine Optimization Techniques).

SEO do prakar ke hote hai pahila on page seo .dusra off page seo.dono bhi agal prakar se kam karta hai. chaliye hum inke bare me jante hai.

        ON - PAGE SEO क्या करता है ?

ON page ye bahut badha ranking topic  hai.on page ko hum on site optimazation bhi kahte hai.isme hum search engines guild line acording to website ka optimazation karte h.or on page SEO ka hi part hai.aapne jo content likha h vo aapke website ka king h.or top ten search me aapka content dikhne ke liye on page ka use hota hai. aap jo bhi content likhte hai vo SEO friendly hona chahiye.
aapka content ,meta description,tital,or aapka blog ka desing or aapka keyword inka istmal karne se aapke site ko or content ko google ko dhudne me kaffi aasani hoti hai.in chijo par aap dhyan dene me aapka content top ten google page ranking me show krega or aapke website par traffic badhegi or uska aapko fayda milega.joki aasani se aapka blog upar aa jayega..


        OFF - PAGE SEO क्या करता है ? 

 Off Page Seo inka sara kam blog ke bahar ho jata hai.Off page optimization kuch nahi hai.lekin ek technique hai jo ki aapke website ko improve karti hai.search engine ranking ko search engine particular keyword par.isme ham genarally backlink create karte hai.dusroke website par.ye slow procces jarur hai ki par hume isse jarur karte rhna chahiye.jaise ki popular website ja kar unke website guest post karna vo aapke website ko backline mil jata hai.agar aap ka on page perfect sahi hai to fir aapko koi bhi backlink de skta hai. backlink ke bajese aapki website achi rank kar jati hai.
or uska kafi jyada fayda milta hai.SOCIAL NETWORKING SITE jaise facebook ,google plus,twitter,whatsup,any etc.social pe apna ek page banaye jo ki attrative dikhe or like follower apne bdhaye,or jyada se jyada waha se visitor lane ki koshish kare.or koi bhi aapke website par aane wala user 5min to bhi tikna chahiye or aapke website excces kare our bussines provide kare .aap ko abh samaj hi aaya hoga.

dosto aaj humne dekha seo kya hai means seo in hindi agar abhi bhi aapke man me koi sawal he to comment karke puchiye. 

.dateHeader/>

हाइट कैसे बढ़ाये तेजी से इन टिप्स को फॉलो करे | INCREASE HEIGHT TIPS
                       हेलो ,दोस्तों।      हमारी हाइट कैसे बधाई जाये। Increase height tips in hindi
    हाइट हमारे लिए कितने महत्व पूर्ण होती हे. अच्छी हाइट और आपके वक्ती सुन्दरता में आपको चार चाँद लगाने में मदत करता हे. आप ने तो देखे होंगे की किसी की हाइट कम रही तो वो बिल्कुल अच्छा नहीं दीखता हे. और लोग उसके तरफ आकर्षित नहीं हो पाते.बहोत लोग ऐसा कहते हे. हमारी हाइट सिर्फ २१ साल तक बढ़ती हे. आप चाहे लड़के हो या लड़की पर अच्छी हाइट आपके पर्सनलिटी पर निखार लाती हे.आप ज्यादा अपने आत्माविश्वाश से भरपूर महसूस करते हे।  आम तोर पर लंबाई १८ वर्ष आयु तक बढ़ सकती हे. क्यों की हमारे  शरीर में लंबाई बढ़ाने का सबसे प्रभावी शुमन क्रोध हार्मोन यानि की HGH जोकि हमारे pituitary gland से निकल ता  हे. जिससे हमारी लम्बाई बढ़ती हे. अगर सही मात्रा में प्रोटीन और उचित मात्रा में आहार नहीं मिलता तो शरीर के विकास की प्रक्रिया रुक जाती हे. और लम्बाई में हाइट बढ़ना रुक जाता हे लेकिन जैसे ही. हम १८ वर्ष की आयु पोहचते हे.हमारे शरीर का हार्मोन निकल न कम हो जाता हे. जिसके बाद आपकी हाइट बढ़ना रुक जाती हे. लेकिन घरेलू में कई ऐसे उपाय हे. जिनके मदत से HUMAN GROWTH HORMON  उत्तेजित कर के आप २१ साल तक हाइट बढ़ा सकते हे. 



हाइट बढ़ाने के घरेलु उपाय। 

*   गाय का दूध एक ग्लास उगला वाला लेना हे. थोड़ा गरम दूध में २ चमच गुड़ मिला लीजिये। और रोजाना सुबह खली पेट पीना हे. आप इसे ३ महीने तक पीना जरुरी होता हे. लड़के और लड़किया ले सकते हे. आप की  ज्यादा हाइट बढ़ाने में मद्त करता हे. इसीसे आपकी हॉर्मोन ग्रोथ अछि तरह से बढ़ जाता हे. 


*   अश्वगंधा पॉवडर ,और मिश्री पॉवडर ये आपको कोई भी किराना दुकान पर मिल जायेगा. आप रात में खाना खाने के एक एक चमच दोनों को मिला कर पानी के में डाल कर ले सकते हे. या फिर दूध के साथ ले सकते हे. 
ऐसा आपको ३महिने करना हे. ये बहोत ही बेहतरीन नुस्खा हे. ये शरीर के हमारे हार्मोन ग्रोथ रुके हुए को दुभारा ग्रोथ करता हे. इसे लेने से आपकी हाइट बढ़ने लगती हे. और इसका साईट इफेक्ट कुछ भी नही हे. 


*    मीठी ढही ताजा दही एक कटोरी भर लेना हे. और उसमे चुन्ना जो खाने वाले पान को लगया जाता हे वही चुन्ना एक चन्ना दाना इतना लेना हे. उसका पॉवडर भी चलेगा बहोत काम मात्रा में लेना हे. दही के साथ चुन्ना दाल कर अच्छा मिलाकर खा लेना हे. इसके सेवन से आपको १५ दिनोमे अपनी हाइट नजर आ जाएगी। आप को ऐसा ३महिने तक लेना हे. आप दिन में कभी भी दही खा सकते हो। 

 खाना में सेवन करे। 

*  पालक में कैल्शियम फायबर विटामिन आयरन भपुर मात्रा में होता हे. जिससे आपकी हड़िया मासपेशिया मजबूत होते हे. और हाइट लम्बाई भी बढ़ाने मद्त करता हे. 

*   शलगम हमारे शरीर में हाइट बढ़ाने वाले हार्मोन को बढ़ती हे. इसमें विटामिन मिनरल प्रोटीन होते हे. आप शलगम को कच्चा सलाद के रूप में खा सकते हे. याफिर सब्जी बनाकर इसका सेवन कर सकते हे. 

*   सोयाबिन हप्ते में तीन बार खाये।इसमें प्रोटीन पाया जाता हे. हमारे मास पेशियों को बढ़ता हे और मजबूत बनता हे. और हाइट में ग्रोथ भी ज्यादा करता हे. 

*   गाजर और बढ़ गोबी ये दोनों हमारे लाबाई बढ़ाने में मद्त करती हे. ब्लड PURE होता हे. और आपको कैंसर कोभी पुरे तरीके से खम्त करता हे। 

लम्बाई बढ़ाने में आपको रनिंग ,स्विमिंग ,रस्सी खुद और किसी पाइप पर लटकना जरुरी होता हे,इनमेसे कोई भी काम करे ३०मिनिट ऐसा करने से आपको १५दिनों में हाइट बढ़ने की प्रक्रिया दिखाई देगी। 


दोस्तों अगर आपको ये पोस्ट पढ़के अच्छी  लगी  हो तो  कमेंट करे और शेयर करे।

दोस्तों साइट पर आने के लिए आपका खुप खुप आभार।















.dateHeader/>

शुगर की बीमारी 15 दिन में खत्म करे। HOW TO DIABETIES MADHUMEY IS CONTROL.??
       हेलो,   दोस्तों।      मधुमेय ,डायबटीज़, शुगर को खत्म कैसे करे। ya diabedies control kaise kare
      आपको बता दे की आज की दुनिया में शुगर बहोत ही बढ़ता जा रहा हे. और आज की दुनिया में आधे लोग शुगर से रहते हे. शुगर डीबीटीएस या मधुमेय एक ऐसी बीमारी हे. जो अगर एक बार लग जाती तो उसे लगातार एलोपैथ की दवाईया लेनी पढ़ती हे. इसके बाद भी ये दवाइया शुगर से छुटकारा दिलाने में ना काम रहती हे. मधुमे सबसे तेजी से फैलने वाली बीमारिया होती हे. भारत में लगभग ६ करोट लोग मधुमेय बीमारी से हे. आने वाले सालो में बढ़ती जा रही हे.


मधु मेय  के रोग में खून के अंदर शुगर की मात्रा अद्धिक हो जाती हे. और रोगी के शरीर में एक अंसुलीन प्रकृति से बनना बंद हो जाती हे. अगर किसी व्यक्ति को मधुमेय यानि शुगर की बीमारी होती हे. तो उसे चोट लगने पर या घाव लगने पर सामान्य व्यक्ति के तुलना में कही ज्यादा टाइम लगता हे. उसके घाव आसानी से नहीं भरते। इसिलिये मदुमेय के रोगी शरीर में इस्न्सुरियन की मात्रा नियंत्रित करने के लिए दवाइयों और टेको का सहरा लेते हे. और सारे उम्ब्र  उन मीठा या मीठे  से बने पधार्त तो का सेवन करने की मनाई करते हे. वैसे तो अब तक ऐसी कोई दवाई नहीं बनी जिसके सेवन से हे. हम यानि शुगर को जड़ से खत्म कर सके। हम सिर्फ दवाइयोका सेवन करके इसे नियंत्रण में तो ला सकते हे. पर जड़ से ख़त्म नह कर  पाते.लेकिन आय्रुवेदिक में कुछ ऐसे उपाय हे. जिनको अपना कर हम मधुमेय को जड़ से खत्म कर सकते है.


                    घरेलु उपाय।

गुडल के पत्ते। 

*      गुडल यानिकि हिबिक्स का पेड़ बहुत ही कॉमन होता है यहाँ आपको किसी भी गार्डन या नर्सरी में मिल जाएंगे  इसके अन्दर लाल कलर का फूल उगता हे और यहाँ पेड़ दिखने में बहुत ही साधारण सा दीखता हे पर जितना साधरण  यहाँ फूल दीखता हे जिससे कहि ज्यादा गुना इसके अध्भुत फायदे भी बहोत हे.  इसीलिए इसका इस्तमाल कही तरह की दवाइयों और कॉस्मेटिक में किया जाता हे. इस नुस्के को बनाने के लिए गुडल के आठ या दस पत्ते को अच्छी तरह पीस कर इसकी एक चटनी बनाले फिर एक ग्लास पानी में तीन या चार चमच चटनी को अच्छी तरह से मिला कर रात भर के लिए रख दे और सुभाह उठ कर खली पेट इस का सेवन करे ,गुडन में फेरोलीक एसिड पाया जाता है। जो डाइबिटीस की बीमारी में बोहत ज्यादा काईगर होता है अगर इसका सेवन पंधरा दिन करते हे तो आप देखेंगे की इसकी शुरुवात करते हे तो केवल दस दिन में ही आपका शुगर लेवल बोहत ही कम अच्छी तरह इंप्रू हो जायेगा और पंधरा दिनों में तो पूरी तरह घटने लग जायेगा इसके आलावा बोहत ही घरेलु नुस्के हे...  

सर्जन के पेड़ के पत्ते। 

   तो यह भी एक बोहत आसानीसे मिल जानेवाला पेड़ है इस पेड़ में एक तरह की फल्ली लगती है जिसको सुरजने  की फल्ली भी कहा जाता हे इसको बनाने के लिए एक ग्लास पानी और एक कटोरी ताज़ी सर्जन के पत्तियों को भी डाले और फिर इसको मिक्सर में डाल कर एक ग्लास जूस तैयार करे इस जूस का सेवन रोजाना शाम और सुभह करे खाना खाने आधे घंटे पाहिले करे साथ ही इस ड्रिंक को लेने तक एक घंटा तक कोई दवाई का सेवन ना करे मतलब जिस टाइम दूसरी दवाई या लेते है उससे कमसे कम एक घंटे पाहिले या एक घंटे बाद ड्रिंक पिया करे तो दोस्तों सर्जन के पत्ते तो एस्कॉर्बिक एसिड पाया जाता हे जो हमारे शरीर में इन्सुलिन के मात्रा को प्राकृतिक रूपसे तेजीसे बढ़ाता है। जिससे हमारा ब्लड शुगर लेवल कम होता है जो लोग रोजाना इन्सुलिन या इंजेक्शन या दवाई ले रहे हे उनके लिए यह ड्रिंक प्राकृतिक की तरह है।

 तेज पत्ता, बेल पता ,जामुन ,मेथी दाना। 

*     तेज पत्ता और बेल के पत्ते आपको कही भी ,मिल जायेंगे। जामुन हमारे शरीर में शुगर की मात्रा में कम करने में जामुन और जामुन के बीज दोनों ही पुअरने समय से डाइबटीज इसके लिए इस्तमाल में लाये जाने वाली सबसे असर दार ओषधी हे इसी लिए जभी जामुन के सीजन आये तब रोजाना जामुन का सेवन जरूर करे और उसके बाद इसके बीज बचा ले ताकि उसके बिजूका इस्तमाल पुरे साल भर के लिए किया जा सके इसके आलावा हमें जरुरत होगी मेटि दाने की दोस्तों मेथी दानों का इस्तमाल अपनी डाइबटीज में बोहत ही अच्छा होता है इसलिए मेथी के दाने का इस्तमाल डाइबटीज के मरीजों को ज्यादा से ज्यादा करना चाहिए इस नुस्के को बनाने के लिए बेल के पत्ते और तेज के पत्ते और जामुन के बीजो को अच्छी तरह से कुट्ट कर रख दे और अच्छी तरह से सूखा कर इन मिक्सर में पीस कर अच्छे से पाउडर बना ले। और सौ ग्राम जामुन बीज का पाउडर डेढ़सौ ग्राम बेल पत्तो का पाउडर मिला ले पच्चास ग्राम तेल पत्ता पाउडर पच्चास ग्राम मेथी दाना पाउडर ,इन सबको मिलाये इस तरह से इन साडी चीजों को मिला कर एक जून तैयार हो जायेगा इस जून का रोजाना नास्ता करने से पाहिले उबला हुवा पानी में गुनगुना पानी दो चमच पाउडर मिला ले। बेल पत्रों के अन्दर अन्तिकबॉयोटिक होती हे जो की शरीर में शुगर के मात्रा को कम  करती है।इसके आलावा जामुन के अन्दर अंतिक आक्सीजन पाए जाती हे साथ ही इसके अधिक मात्रा में फायबर होता हे जो की डाइबटीज में चमत्कारी तरीके से फायदे मंग साबित होता है। 

करेला ,निम ,मेथी दाना ,एलोवेरा। 


*      इन चारो चीजे सबसे ज्यादा प्रमुख माना जाता है। करेला एक ऐसा पेड़ होता हे जिसकी जड़से लेकर  फल तक इस्तमाल अनेक तरह की दवाई यो में होता है। करेले में इतने गुण पाए जाते हे की सर्जन्स लोगोने इसे प्लांट इन्सुलिन का नाम दिया है। करेले के अन्दर विटामिन a ,विटामिन b ,और विटामिन c ,तो इसमें पाए जाने वाली पोषक तत्व हमारे  शरीर में ब्लड शुगर और यूरिन शुगर दोनों को बोहत तेजीसे कम करते हे जिस से ब्लड प्रेशर और हाय पर टेंशन  की समस्या में भी बोहत लाभ मिलता है। इसलिए करेला का जूस रोजाना एक टाइम जरूर पीना चाहिए। इन सभी चीजोंका पाउडर मिला कर पि सकते है। जो की डाइबटीज का जिसे ख़तम करने में हमारे शरीर में मदत करेगा। जिसके लिए आपको जरुरत होगी मेथी दाने का पाउडर करेले के भिज का पाउडर निम् के पत्ते का पाउडर और दो चमच आँवले का पाउडर,एक चमच करेला का पाउडर,एक चमच मेथी दाने का पाउडर ,आधा चमच निम् पाउडर इन सभी को मिला कर उभलें हुवे पानी में दाल कर पि जाये इसके फायदे आपका शुगर कम करने में और ख़तम करने में बोहत ही जरुरी हो जाता है।



दोस्तों अगर आपको ये पोस्ट पढ़के अच्छी  लगी  हो तो  कमेंट करे और शेयर करे।

दोस्तों साइट पर आने के लिए आपका खुप खुप आभार।


     












 एक्सरसाइज साइज करने के फायदे 10TIP | EXERCISE WORK OUT TIPS..??
   हेलो ,दोस्तों।       एक्सरसाइज साइज करने के फायदे ही फायदे  ....WORK OUT KE FAYDE

          दोस्तों हमारे जिंदगी में   एक्सरसाइज करना बोहत ही महत्व पूर्ण हो ता है।पर कही लोग करते है /पर कही लोग नहीं करते है।   एक्सरसाइज लाइफ में करना सबको बोहत ही महत्व पूर्ण होता है। क्या कैसे आप  एक्सरसाइज,के जरिये बीमारीयो से कैसे बच सकते है।  एक्सरसाइज की कही नहीं बोहत सारे फायदे है। और जिसकी बजहसे  एक्सरसाइज मुक्त ली प्रॉब्लम  के लिए प्रेपर करंगे। तो दोस्तों नेव्रोली लॉग यूज़  करने के लिए  एक्सरसाइज बॉडी फाइट के लिए रेडूस करते है  एक्सरसाइज का सबसे बड़ा फायदा ये है के इसे जो बॉडी फाइट हे वो बोहत कम टाइम में रेडूस और लूस हो जाता हे. मोटा पा वगेरा बोहत कम टाइम में ख़तम हो जाता हे और ज्यादा तर लोग इसी फायदे के बजहसे  एक्सरसाइज को प्रेपर करते है। लेकिन आप  एक्सरसाइज के आलावा बोहत से फायदे हे जैसा की ये मैमोरी को इंप्रूप करने में बोहत ज्यादा यूज़ फुल होता है। आपको कोई भूलने की बीमारी वगेरा हो जाती है या कोई मैमोरी प्रॉब्लम हो जाती हे तो इसके लिए आपको चाहिए या आप दवाई यो के साथ साथ  एक्सरसाइज बी जरुरत होता हे क्या आप इस प्रॉब्लम से जलसे  जल निपट सके।

   इसके अलावा बॉडी को बोहत ज्यादा ऑक्सीजेनेट करती हे इस लिए दम्मा वगेरा की पेशंट को चाहिए बोहत ज्यादा हार्डका   एक्सरसाइज ना प्रदार करे लेकिन स्लो से  एक्सरसाइज  करे।ताकि जो अटैक से गोन से बच सके उसकी बजहसे जो बॉडी   ऑक्सीजजन वो जनरेट होती रहेगी। जो अटैक वगेरा हे. उनका रेज बहोत ज्यादा कम  जायेगा,इसके अलावा वेर  एक्सरसाइज का एक  फायदा ये भी हे. की इसे जो मसल हे. जो बहोत ज्यादा मजबूत हो जाते। और बोनस जो ही हे बहोत स्ट्रांग हो जाते हे,

DAILY रन WORK  OUT .

*      हार्ट टाइट की आशंका कम नियमित रूप से आप १० मिनिट रनिंग करने से हार्ट की प्रोम्ब्ले कम होती हे. 
क्यों की उसमे रुध्य के धड़कने बढ़ जाती है. हर धड़कन  साथ वृद्धाय अधिक रक्त पंप करता हे, जिससे रक्त नाली काऔ का लचीला पण रखने में सहित होती हे. 

प्रतिरोधत कक्षमता में मजबूती। 

*     इसीसे आप कही समस्या ये सामान्य अन्न बीमारिया जैसे,लजी,ठंड,और खासी के खतरे से बचे रहते हे,आप डेली १० मिनिट तक रनिंग करने से आपको ये बीमारिया नहीं होते हे. 

डायबटीज पर निमंत्रण।  

*     आज के समय में डायबटीज होना आम बीमारी हो गयी हे. ये शरीर में मिट्टी जहर की तरह फैलती हे. इसलिए इसे बचना जरुरी हे. इसे बचने में नियमित रूप से १० मिनिट दोहड़ ना  आपकी मदत कर सकती है।दौड़ने से इंक्लिन बने की प्रक्रिया में सुधर होता है ,और शरीर में रक्त शर्करा प्राप्त पर नियंत्रित रहता है।

   कोलेस्ट्रॉल कम करे।

*     दौड़ना आपके शरीर में एक सवस्त कोलेस्ट्रॉल को बना ने रखने में मदत करता है और इसके साथ जुड़े हुवे पिंस समस्या को खतरे से भी कम करता है।


पाचन सबधी समस्याओ में कारगर।   

 *       पसीना निकलने वाली दौड़ मेट्टा बोलीजन को अत्रिक  चर्बी को जलने को काम करता है,दौड़ नेसे भूक लगती हे और पाचन क्रिया को में भी सुधार होता है। 

  तनाव मुक्त करता है। 

*  दौड़ने पुरे शरीर के लिए टॉनिक की तरह होता हे. दौड़ने के दवरान शरीर में अन्डोकिंन नामक केमिकल यानि फील गुड नामक का त्रात होता हे। जिससे आप  मुक्त रहते हे. ठिकिस्रोत का कहना की दौड़ने ना केवल तनाव मुक्त करता हे. बल्कि दर्द निवारक की तरहा ठीक काम करता हे.

वजन घटता हे। 

*     यदि आप अपने शरीर का भार कम करना चाहते हे. तो दौड़ने शुरू दीजिये। १० मिनिट दौड़ने से आपका काफी वजन कम हो जाता हे. और आप फिट रहते हो. और दौड़ने से शरीर का कैलरी कम होता हे. और साथ ही साथ शरीर का वजन घटत हे. 

आपकी हड्डियों को मजबूत करता हे। 

*      नियमित रूप से दौड़ने से आपकी हड्डिया और मांसपेशिया दोनों ही मजबूत होती हे. और आप को दिन बर फ्रेश मूड लगता हे। 

ऊर्जा को बढ़ा देता हे। 

*     दोस्तों की आप जब उठते हे. तो आप ऊर्जा हिन् महसूस करते हे.  यदि ऐसा हे. तो यह ऊर्जा का स्तर बढ़ा देता हे. जिजसे की आप अपनी दैनिक दिनचर्या ऊर्जा के साथ कर सके। 

पाचन में सुधर लता हे। 

*     दौड़ने  से हमरी पाचन प्रक्रिया में सुधर आता हे. और हमारी भूख भी बढ़ जाती हे. क्योकि यह हमारी कैलरी को कम कर देता हे. जिससे हमें भूख लगाने लगाती हे। 


दोस्तों अगर आपको ये पोस्ट पढ़के अच्छी  लगी  हो तो  कमेंट करे और शेयर करे।
दोस्तों साइट पर आने के लिए आपका खुप खुप आभार।


.dateHeader/>

हार्ट अटैक घरेलु उपाए  बीमारी से मुक्ति पाये | FREEDOM FROM HEART ATTACK DIESEASE..??
    हेलो ,दोस्तों।           कोई भी व्यक्ति हार्ट अटैक से नहीं मरेगा।FREEDOM FROM HEART ATTACK

 हार्ट अटैक से छूट करा कैसे पाया जाये। हार्ट अटैक क्यू होता और कैसे होता ,आप ने तो सुना ही होगा हार्ट के बारे में ,पर आपको इसकी डीटेल नहीं पता होगी तो आप जानेगे हार्ट अटैक के बारे में. कोई भी वेक्ति हार्ट।  से नहीं मरेगा,इसे पड़ने के बाद। जान लीजिये हार्ट अटेक का सच नहीं तो पछताते रहोगे जिंदगी भर,.जिसे की आपका हार्ट अटक के बारे में अच्छे से समाज ले.

हार्ट अटैक की शुरुवात हमेशा आक्सिडिटी होती है। २ प्रकार की एसिडिटी होती है। १ पेट की एसिडिटी,और २ ,रक्त की एसिडिटी। जैसे की पेट की एसिडिटी बोहत ज्यादा बढ़ जाती है वो हमारे खून में मिल जाती है इसलिए खून गाड़ा हो जाता है जिसे हम रक्त अम्लता ब्लड एसिडिटी कहते है। और जब खून गड्डा हो जाता है तो हमियो खून दिल की नालियों मेसे निकल नहीं पाता हे इसलिए हमें हार्ट अटैक होता है ,जिसके बिना हमें हार्ट अटैक नहीं होता है। और यही आयुर्वेद का सबसे बड़ा सच है की कोई भी डॉक्टर आपको बताता नहीं है। हो गई हार्ट  अटैक की कहानी कैसे वेक्ति को रुध्य हार्ट अटैक होता है।

 दोस्तों किसी भी व्यक्ति को कोई भी बीमारी ,रोग ,होतो उस वक्ती को उपचार से पाहिले. बीमारी का कारण जरूर पता करना चाहिए. आखिर यह रोग मुझे क्यू हुआ हे. तो इसका क्या कारण हो सकता हे. तो इसलिए हम सबसे पाहिले हार्ट अटैक का कारण बता रहे हे. वो भीर आप को इसका उपचार बता रहे ताकि आप द्यान में रखे. ताकि आप जो भी उपचार करे वो जल्दी ही असर करे वो आपको हार्ट अटैक की समस्या से निकल जा सके. हार्ट अटैक की सुरुवात एसिडिटी से होती हे.

घरेलु इलाज। 

एसिडिटी सुरुवात अम्ब्ली चीजों का सेवन ज्यादा मात्रा में करते हे. तब ही हमारे शरीर में  अम्ब्ल बनाना,एसिडिटी बनाना शुरू होता हे, आपको मालूम हे. हमारे शरीर में दो प्रकार के तत्व होते हे. एक अम्ब्ल और दूसरा क्षार एम्ब्लिया और क्षारीय ये दोनों तत्व ही हमारे शिरिर  में होते हे. शरीर में सभी रोगो की शुरुवात अम्ब्ल और क्षार के अशंतुलन से होती हे.और इसके अशंतुलन सही रोग समाप्त भी हो जाते हे. मनुष्य के शरीर में 80 %क्षार तत्व और २० %अम्ब्ला तत्व होता है। इस अनुपात को बनायक रखना ही अच्छे स्वस्त का  आधार है एमब्लिक चीजों में सबसे ज्यादा अम्बालि चीजों में सबसे ज्यादा अम्ब्ला आओडीन युक्त नमक, चाय, कॉफी,मॉस ,अंडा ,तंबाखू ,रिफाइन ऑइल ,सफ़ेद शक्कर,इन सब चीजों को खाने से शरीर में अम्ब्ला बढ़ने लगता है। और फिर यही अम्ब्ला एसिडिटी जब हमारे शरीर में बढ़ने लगती हे तो हमें छोटी बड़ी बीमारियों का सामना करना पड़ता है। जैसे क़म्बर दुखना ,घुटने दुखना ,कन्धा दुखना ,कैंसर होना,शुगर होना,गठिया होना ,हार्ट अटैक होना,ब्रेन हैमरेज होना,शरीर में यूरिक एसिड का बढ़ना ऐसे बड़े बड़े अस्सी वात रोग हमारे शरीर में आते है। तो दोस्तों जिसको भी हार्ट अटैक की समस्या हे तो वो भी कैंसर है तो भी वो पाहिले अपने खान पान  में देख लीजिये की वो कहा पर गलती कर रहे है। और फिर उसमे बदलाव करे। दोस्तों आप जैसे ही अपने खान पान  में बदलाव करेंगे आपको असर दिखना सुरु हो जायेगा बिना किसी भी दवाई के आपको असर दिखना शुरू हो जायेगा लेकिन धीरे धीरे असर होगा। तो आप जल्दीसे रोग को ठीक करना चाहते है तो सबसे पाहिले अपने खान पान में बदलाव करना पड़ेगा


याने जिन चीजोंसे शरीर में अम्बल बढ़ता है उन चीजोंको बंद करना पड़ेगा ,अगर आप खाने में आयोडीन मुक्त नमक खा रहे हे तो उसकी जगह आपको शिंदा  और काला नमक ही खाना है। शिंदा और काला नमक ही दोनोभी छाड़िया है। दोस्तों चाय से भी बहुत अधिक मात्रा में एसिडिटी  बनती  है।तो अगर चाय पीना आपकी जिंदगी में शुमार है और आप चाय के बगैर नहीं रह सकते तो में आपको बोहत अच्छी चीज बता रहा हु जिसे आपकी चाय की तलफ भी शान्त हो जाएगी और नुसकान भी नहीं करेंगी उसके लिए आपको बाजार से अर्जुन छाल लानी है और घर पर उसको कुट्ट पीस कर पाउडर बना लेना है। ये बोहत ही झाडिया है। अपने हार्ट के ब्लोकेस्ट को जल्दी दूर करती हे तो आप इसका इस्तमाल करीए कैसे करते है। . जबी आप चाय बनाते है और जब आप उसमे चाय पत्ती डालते हे उसमे यह आपको अर्जुन की छाल डालनी है। ज्यादा मात्रा में नहीं डाले थोड़ी ही मात्रा में डाले नहीं तो चाय कड़वी हो जाएगी उस हिसाब से डालें आप कितनी चाय बनाते हे और उसको खूब गरम कीजिये और फिर छान कर पि लीजिये आपको बिलकुल चाय के जैसे ही स्वाद आयेगा बिलकुल कलर ही चाय जैसा ही होगा बहुत ही हलकी सी चाय कड़वी लगेगी इतना तो करना पड़ेगा दोस्तों अगर आप पंधरा दिन तक पि लिया ९९ %आपकी बीमारी हट्ट जाएगी और ये दुबारा नहीं पायेगी।

      हार्ट अटैक वाले को कोनसा तेल खाना चाहिए

      अगर आप रिफाइंड ऑइल खा रहे है तो आप उसे तुरंत ही बंद कर दीजिये। सबसे अच्छा खाने में घाने का उत्तम  तेल है.आपके पास तेल हे मूंगफल्ली ,सरसो ,तेल निकाल व कर लाएंगे तो वो सबसे अच्छा तेल है ,अगर आप यह नहीं कर सकते तो रोक रिफाइन ऑइल तो मत खाये उसे अच्छा आप सरसो का तेल खाये ,या मूंगफली का तेल खहिए बाजार से खरीद कर। लेकिन रिफाइन ऑइल नहीं खाना है तो आप हार्ट अटैक से बच कर रहिये,

      पीपल पत्ता का उपाय। 

      पीपल के पंधरा पत्ते ले जो की कोमल हो.पते हरे भरी प्रकार विकसित हो उन प्रतिय पत्तो का निचे कुछ भाग कैची से काट कर अलग कर दे और फिर पते का बिच का भाग पानी से साफ करले इन एक गिलास पानी में धिनी आच पर बकने दे और जब पानी उबाल जाये। तब उसे ठंड करले और साफ कपडे से छान ले। उसे ठंडे स्तान पर रख दे बस दवा तयार हे. इस कड़े की एक कप भर ३ घंटे बाद पिटे रहे. ऐसे दिन में ३ बार लेते रहे. पेट थोड़ा भरा होना चाहिए। हार्ट अटैक के बाद कुछ दिन ये लेते रहे इसे आपको पूर्ण सस्त हो जाता हे. फिर दिल का दवरा पढ़ने की  का सभवना नहीं रहती. बस इतना करने से आपको कुछ नहीं होगा।


दोस्तों अगर आपको ये पोस्ट पढ़के अछि लगी  हो तो  कमेंट करे और शेयर करे।

दोस्तों साइट पर आने के लिए आपका खुप खुप आभार।










.dateHeader/>

विटामिन की मात्रा कैसे बढ़ाई जाये। WHAT ARE VITAMIN & MINERALS..??
        हेलो ,दोस्तों ,        कोनसे विटामिन हमारे शरीर के चाहिए और कोनसे नहीं.KYA HAI VITAMIN -MINERAL

   जैसे की हमारे शरीर में और सबके लोगोके शरीर में विटामिन की मात्रा होती हे. विटामिन हरेक हमारे शरीर को स्वथ रखता हे. और विटामिन कम होने से हमारे शरीर में बीमारी लेकर आता हे. इसलिए हमे विटामिन सभी चाहिए। पर ऐसा नहीं होता। हर किसी को कोई न कोई विटामिन कमी होती रहती हे. क्यों की हम सभी जन जानते हे विटामिन और मिनरल की बहुत जरुरी होती हे.विटामिन जटिल कर्बनिक योगिक है। जिनकी थोडीसी मात्रा ही है,हमारे शरीर की उपचय क्रिया ओ को सुचाव रूप से चलने के लिए काफी होती है। सभी का संचलन हमारे शरीर में  नही  होता।हम अपने शरीर की  आवश्यकता ओ के अनुसार विटामिन्स को भोजन से प्राप्त करे।

दोस्तों फल और सब्जिया कुदरत का दिया हुवा खजिना हे जो की हमारा पेट तो भरता ही हे इसके साथ साथ जरुरी विटामिन्स वगेरा की जरुरत होती है 'वो इनसे मिलते है और वो उसका प्रमुख शोध होते है। तो आज हम डिस्कस करने जा रहे है किसकिस सब्जी में या किसकिस खाद्य पदार्थ में क्या क्या विटामिन अवेलेबल है ताकि आपको और विटामिन्स डडफेंसिस हे उसको आप तो पूरा कर सके।

*  विटामिन A ,आपको और हड्डियों के लिए बेहद जरुरी होता हे ये हरी सब्जी यो में दूध डेरी प्रॉडक्ट शकर गंद। गाजर ,ब्लॉकली ,तरबूज ,पपीता ,अंगूर अदि में प् सकते है। और इन चीजों को सेवन करे भरपूर मात्रा में बढ़ जाएगी।इसका रसाहिनिक नाम रेटिनॉल है यह विटामिन हमारे शरीर के लिए अत्यंत आश्यकता हे इसके कमी से हमारे शरीर में रत्योधित नामक रुक हो जाता है  जिसके हलके अँधेरे में भी हमें कुछ भी दिखाई नहीं ,दिखाई  देता। और इसके कमी से हमारी जन्म  क्षमता भी कमजोर हो जाइत है।

*  विटैमिन B इसका रासायनिक नाम थाइमिन हे। वित्ततमइन बी के कई प्रकार है। जैसे बी १ ,बी २ ,बी ३ ,बी ४ ,से बरातक प्रकार है। लेकिन इसमें सबसे महत्व पूर्ण विटामिन बारा हे,जिसका रासायनिक नाम साहिनो ,कोबोअलेमिन है ,विटामिन  बी की कमी से हमारे शरीर में बेरी,बेरी नमक रोग हो जाते है जिससे हमारी त्वचा प्रभावित होती है और विटामिन बी के कमी से हमारे शरीर में खून की बी कमी हो जाती है अन्नामिना रोग बी कहते है। इन सभी रगोसे बचने के लिए जरुरी हे की हम ऐसी चीजे खाये जिनमे विटामिन बी एक संतुलित मात्रा में होता है।केला फलिया आलू जुगांधर जैसे मच्छली अण्डे सुके  मेवे दूध हरी पत्तेदार सब्जिया अनाज दाल अदि

*    विटामिन C  का रासायनिक नाम एस्कॉर्बिक एसिड है ,यह विटामिन भी हमारे लिए बहुत महत्व पूर्ण है इसकी कमी से हमें स्कर्वी नामक रोग हो जाता है मसूडोसी खून आता है। और दाँत जल्दी ही उखड जाता है। विटामिन c के कमी से हमारी हडियो भी कमजोर हो जाती है। विटामिन C के स्त्रोत निम्न है। यह कच्चो फलो ,नींबू ,संत्रा रसीले फल पालक टमाटर ,अनानस ,आंवला अदि में काफी मात्रा में मिलता  है।

*       विटामिन D का रासायनिक नाम कैल्सिफेरॉल है। यह विटामिन हमारे लिए शरीर के लिए बहुत आवश्यकता है। परन्तु इस विटामिन की अधिक मात्रा को बहार से लेने की ज्यादा जरुरत नाही है। क्योकि इस विटामिन का सश्लेषण सूर्य के प्रकाश में हमारी त्वचा खुद कर लेती हदें। इसकी कमी से रिकट्स नामक रोग हो जाता है। जिससे हमारी हडडिडया बोहोत ही कमजोर हो जाती है। व टिड्डी भी हो जाती है।  क्योकि की इस विटामिन की कमी से हमारी हड़िया रुधिर रुधिर से कैल्शियम का अवशोषण नहीं करता है। इसके स्त्रोत निम्न है। यह मच्छली के तेल अण्डा ,मखन,दूध ,घी में मिलता है।

*      विटामिन E ,रासायनिक नाम टोकोफोरोल है ,विटामिन E बी हमरे शरीर के लिए बोहत ही ज्यादा आवश्यकता है। क्योकि इसके कमी से हमारे शरीर में जनन क्षमता इसके कमी होने पर टैस्टिस के कोशिशकाये हार्मोन्स नहीं बना पाता है। जिससे हमारी जनन क्षमता कमजोर हो जाती है। इसे निम्न स्त्रोत से द्वारा प्राप्त किया जा सकता है। जैसे सोयाबीन गेहू के अंकुर ,माखन ,गाजर,टमाटर,केला,मास अदि से प्राप्त किया जा सकता है।

*      विटामिन K ,विटामिन K हमारे शरीर में बोहत कम मात्रा में जरुरत होती है। वैसे ही इस विटामिन कमी होने पर र्हुदय का थक्का नहीं जम पाता और चोट लगने पर अधिक रुधिर बहने के संभावना होती है। विटामिन K,भी निम्न स्त्रोत हे जिनसे हमें प्राप्त होता है ,पत्ता गोभी ,फूल गोभी ,पालक ,चौड़ी,मेथी, हरे सब्जिया अदि में यह बहुत आदिक मात्रा में मिलता है।

विटामिन से होने वाले रोग। 

*   विटामिन A  से की कमी से होने वाले रोग। 
            रतौदी   ( शाम के समय दिखाया न देना )
                             ( NIGHT BLINDNESS )
            आखो की रोशनी कम हो जाना। 
          आखे पूरी तरह से काम न करना. 

*    विटामिन B  की कमी  से होने वाले रोग। 
          बैरिबैरी  ( BERIBERI )
        बहुत कम कार्य क्षमता 
        मॉस पेशियाँ में कमजोरी 
           नर्वस सिस्टम में खराबी 
            बोहत कमजोरी आना। 

*   विटामिन C के कमी से होने वाले रोग 
          स्कर्वी ( SCUEVY ) 
           जोडोमे दर्द
         थकान और एकाग्रता में कमी

*    विटामिन D की  होने वाले रोग
           रिकेट्स ( बच्चो में  )
              ऑस्टियोमलासिया ( बड़ो में )
     
*     विटामिन E की कमी से होने वाले रोग
          जनम क्षमता में कमी
          ( LESS FERTILITY )
  बांझपन ( SRERILITY )
   रक्तलयन ( HEMOLYSIS )
    ये बच्चो में होता है।

* विटामिन K की कमी से होने वाले रोग
      रुधिर का धक्का न बनना
           ( NON CLOTTHING OF BLOOD )

        फॉलिंग ऐसिड की कमी सेहोने वाले रोग
               दस्त लगाना ( DIARRHEA )
             जिव्हा में सूजन आना ( GLOSSITIS )
               थकान आना
           कैंसर होने की संभावना।



दोस्तों अगर आपको ये पोस्ट पढ़के अछि लगी  हो तो  कमेंट करे और शेयर करे।

दोस्तों साइट पर आने के लिए आपका खुप खुप आभार।















    
कोलेस्ट्राल कम करने के उपाय | HOW TO CONTROL CHOLESTEROL NATURAL.??
      हेलो ,दोस्तों,                    कोलेस्ट्रॉल कैसे काम करे.KAISE KARE HAMRE CHOLESTEROL KO KAM.

     अक्सर हमारे शरीर  में कोलेस्ट्रॉल बढ़ने की समस्या होती रहती है। ( UNHEALTHY LIFESTYLE )
आज कल जीवन शैली इतनी ज्यादा बदल गयी हे. की हम अपने खान पान पर ध्यान नहीं दे पाते ,और शरीर में कॉलेस्टॉल की मात्रा बढ़ जाती हे. हमारे शरीर में दो तरह के कोलेस्ट्रॉल होते हे,पहिला होता हे BAD (LDL)कोलेस्ट्रॉल LOW DENSITY LIPO PROTIN  जिसको बोर कोलेस्ट्रॉल नाम से भी आना जाता हे. शरीर में इस कोलेस्ट्रॉल अधिक ता होने से जन्म होता हे,हाई ब्लड प्रेसर का दिल की बीमारी यो का मोटा पे का ,सुस्ती का ,शरीर जल्दी ढक जाना और पैरो में दर्द का इसे आपको कही ज्यादा तक्लिप हो सकती हे.


दूसरा कोलेस्ट्रॉल होता हे. HDL हाई DENSITY LIPO PROTIN जिसको अचे कोलेस्ट्रॉल के नाम से जाना जाता हे. यह कोलेस्ट्रॉल बुरे कोलेस्ट्रॉल को शरीर को बहार निकलने के लिए लिवर की मद्त करता हे, ,और लियर बाकि विषैले पदार्ध के साथ यानि टॉक्सिन के साथ बुरे कोलेस्ट्रॉल शरीर को भी बहार निकल कर फेकता हे, और इस प्रक्रिया से शरीर में बना रहता हे. निरोगी इसीसे बहोत अच्छा काम होता हे. जो बुरे कोलेस्ट्रॉल साथ विषैले पदार्ध को शरीर से बाहर निकाले में शक्षम में हमारी मद्त करते हे।

कोलेस्ट्रॉल होता क्या है ,और क्यों होता है। कोलेस्ट्रॉल एक मॉम जैसा पदार्थ है जो हमरे शरीर में यकृत उत्पन होता है और हमारे शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा भोजन में से पोहचती है जैसे ,मासाहारी आहार डेरी फ़ूड इसके मुख्य स्रोद हे फलो और सब्जियों में कोलेस्ट्रॉल नहीं होता है। कोलेस्ट्रॉल रक्त में घुलता नहीं हे जिसके कारन शरीर गंभीर बीमारिया जैसे की हार्टअटैक ,सर्फ़ चॉफ हरडब्लॉकेज अदि जैसी समस्या होती है। कोलेस्ट्रॉल के कारन मोट्टा पा भी बढ़ता है।

 कोलेस्ट्रॉल कम  करने के उपाय। 


*    दो चमच निम्बू का रस एक गिलास पानी में डाले और उसमे आवश्यकता नुसार काला नमक मिलाए ,हरोज सुबह खाली पेट पिए.

*     60ML,आंवले का जूस और एलोविरा का जूस ले और उसमे १०० ग्राम पानी मिला कर हरोज सुभे खली पेट पिए।

*     कच्चे लसुन के तीन काली ले और हरोज खली पेट उसे चबाये। और ऊपर से पानी या दूध पिले। पेट में थोड़ी सी जलन होगी पर उसे थोड़ा सहन करले।


*     अलसी की बीज ५ग्राम सुभे खली पेट खाये और रात में खाने के साथ या फिर खाना खाने के बाद चबा चबा कर खाये जाये.  इन बीजो को खाने के साथ दाल या सब्जी में मिला कर भी ईस्ट मॉल किया जा सकता हे.

*       सुभे नसतो में अंकुरित डालो का सेवन करे,और इसके साथ रात में बिग्गे हुवे बादाम के सात दाने और किसमिश के २५   दाने और  २५ ग्राम अक्रोड और एक चमच अलसी के बीज का तेल इस नास्ते में शामिल करले,

*       खाने में सोयाबीन का तेल इस्तमाल करे,नियामत रूप से व्यायाम करे परेज जेंक फॉर ना खाये तला और ज्यादा घी वाला ना खाना खाये।मीठा बोहत ही कम खाये,इन उपाय यो के इस्तमाल करने से शरीर में इनमे अच्छी कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बड़े गी  बुरे कोलेस्ट्रॉल बहार निकल जाएगी  और उसकी मात्रा कम हो जाये गी टॉक्सिन्स शरीर से बहार निकल जायेंगे ;और इस तरह आप आप अच्छे खासे बने रहेंगे यंग और निरोगी।

*     धनियां कोलेस्ट्रॉल बहुत कम करने में मदत करती है ,साथ ही आपके शुगर को भी कम करता है। धनियो का उपयोग करने के लिए एक कप ,में २ चमच धनिया या पॉवडर पानी में डालकर उबाले और इसे अच्छे से छान ले अब दिन में २ बार पिए इसके आलावा आधा कप पानी में रात भर धनिया  भीगा कर  रखे।खाली  पेट इस पानी को पिए ,और कुछी दिन में आपको फरक  पाने के लिए मिल जायेगा।

  *    प्याज़ खाने से आपका कोलेस्ट्रॉल की कमी हो जाती है। आपको  लाल प्याज़ की जरुरत है  बड़े बड़े कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए प्याज़ का रस को  शहद के साथ मिला कर पीजिये।इसे आपको बड़ा कोलेस्ट्रॉल वो  कम हो जायेगा एक कप छास को प्याज़ को बारीक़ काटले उसको मिलनेसे छास में फायदा मिलता है छास में काला नमक और काली मिर्च आधी चमच डालदे ऐसा लेने  से कोलेस्ट्रॉल कम  हो जायेगा।प्याज़,लसुन,अद्रक ,खाने में जरूर ले इसे कोलेस्ट्रॉल में कमी आती  है.     


*   संत्रा भी कोलेस्ट्रॉल कम करने ने मदत करता हे,संत्रा में भरपूर विटामिन डी होता हे. रोज के तीन गिलास सन्त्रे का जूस पीजिये. जिससे की कोलेस्ट्रॉल मात्रा या को नियंत्रण में रखा जा सकता. यदि आप जूस नहीं पीना चाहते हे. तो आप इसका सेवन भी कर सकते हे. बढ़ा हुआ कोलेस्ट्रॉल हाई ब्लड प्रेसर की समस्या सब खत्म हो जाएगी अगर सन्त्रे के सेवन भी करते हो तो. तजा सभजिया युस करना चाहिए आपका कोलेस्ट्रॉल ठीक रहता हे.
बस इतना करने से आपका कोलेस्ट्रॉल खत्म हो जायेगा। ये सभ घरेलू नुस्के हे. ध्यान में रकते आपको करना चाहिए.

दोस्तों अगर आपको ये पोस्ट पढ़के अछि लगी  हो तो  कमेंट करे और शेयर करे।
दोस्तों साइट पर आने के लिए आपका खुप खुप आभार।

Kuchh Janna Hai To Yaha Search Kare